रुचि के स्थान

सुकमा जिला बस्तर का एक हिस्सा है, कई बाहरी लोग बस्तर संस्कृति और आदिवासियों के आदिवासी जीवन का अध्ययन करने के लिए यहां आते थे। यह समृद्ध पारंपरिक संस्कृति और निर्दोषता वाले लोग हैं जो वन को अपने जीवन के रूप में जी रहे हैं।

  1. दुधमा पर्यटक स्थल: दुधमा पर्यटक स्थल सुकमा के पास सबसे अधिक देखी जाने वाली जगहों में से एक है। यह अपनी प्राकृतिक सुंदरता और दर्शनीय स्थलों के साथ पर्यटन को आकर्षित करता है।जिला मुख्यालय सुकमा से लगभग 28 किमी दूर स्थित है।

  2. तुंगल बांध: जिले के नागरिकों को मनोरंजन या पर्यटन के लिए अन्य जिलों या पड़ोसी राज्यों के पर्यटन स्थलों पर निर्भर रहे हैं। जिला प्रशासन ने वन विभाग के साथ मिलकर नगर के समीप स्थित तुंगल बांध जो सिंचाई के लिए उपयोग में लाया जाता था। इस बांध को ईको पर्यटन केन्द्र के रूप में विकसित किया गया।जिला मुख्यालय सुकमा से लगभग 3 किमी दूर स्थित है । इस ईको पर्यटन केन्द्र में जिला प्रशासन व वन विभाग के द्वारा आधार मूलभूत संरचना का निर्माण, बांध में नौका विहार के लिए मोटर बोट, पायडल बोट की व्यवस्था, पहुंच मार्ग का निर्माण तथा हट स्थल का निर्माण किया गया। 2 अक्टूबर 2015 को प्रदेश के वनमंत्री के द्वारा तुगंल बांध ईको पर्यटन केन्द्र का उद्घाटन किया गया। इस ईको पर्यटन केन्द्र में विभिन्न गतिविधियों- मोटर संचालन, नाका का संचालन, ईमू पक्षियों की देख-रेख आदि के लिए नजदीकी गांव तुगंल के युवाओं को प्रेरित किया गया। जिसमें 21 युवाओं ने सहमति दी, वन विभाग द्वारा स्व-सहायता समूह मुरतोण्डा वन परिक्षेत्र सुकमा के नाम पर समूह का पंजीयन किया ।

  3. दोरनापाल पुल: जिला मुख्यालय सुकमा से लगभग 37 किमी दूर स्थित है। यह छत्तीसगढ़ और ओडिशा राज्य के सुकमा के एलडब्ल्यूई प्रभावित क्षेत्र के बीच एक महत्वपूर्ण संपर्क पुल है। इस पुल निर्माण से पहले, लोगों को ओडिशा जाने के लिए 140 KM की यात्रा करनी पड़ती है, अब इसमें केवल 3 किमी लगते हैं।